प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना : पंजीकरण में मोबाइल नम्बर जरूर दें

बैंकों के आईएफएस कोड बदले जाने से आ रही है किस्तों की राशि ट्रांसफर करने में दिक्कत


बुलन्दशहर : प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के लाभार्थी पंजीकरण फार्म में अपना मोबाइल नंबर जरूर दर्ज करें इससे उनको योजना के तहत मिलने वाले लाभ में यदि कोई परेशानी आती है तो विभाग उनसे संपर्क कर उसका समाधान आसानी से कर सकेगा। पिछले दिनों कुछ बैंकों के विलय होने से उनके आईएफएस कोड इंडियन फाइनेंसियल सिस्टम कोड/आईएफएससी बदल गये हैं इस वजह से योजना की राशि ट्रांसफर करने में दिक्कत आ रही है अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. रोहताश यादव, ने बताया प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के पंजीकरण फार्म आम तौर पर लोग आशा और एएनएम के माध्यम से भरवाते हैं फार्म पर मोबाइल नम्बर डालना वैकल्पिक (ऑफ्शनल) होता है इसलिए लोग इसे नहीं भरते हैं। कुछ दिनों पहले कुछ बैंकों के विलय होने से उनके आईएफएस कोड बदल गये हैं इस वजह से लाभार्थियों की किस्त बैंक खातों में पहुंचाने में दिक्कत आ रही है यदि पंजीकरण के समय लाभार्थी मोबाइल नम्बर दर्ज कर दें तो उन्हें किस्तों की सूचना समय-समय पर मिलती रहेगी वह अपना स्टेटस भी जान सकेंगे उन्होंने कहा हालांकि विभाग ऐसे लोगों जिन्होंने मोबाइल नम्बर नहीं दिया है उनसे आशा और एएनएम के माध्यम से संपर्क करने का प्रयास कर रहा है उन्होंने बताया प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत 5000 रूपये की धनराशि प्रथम बार मां बनने वाली महिला को दी जाती है पंजीकरण कराने के साथ ही गर्भवती को प्रथम किश्त के रूप में 1000 रूपये दिए जाते हैं प्रसव पूर्व कम से कम एक जाँच होने पर गर्भावस्था के छह माह बाद दूसरी किश्त के रूप में 2000 रूपये और बच्चे के जन्म का पंजीकरण होने और बच्चे के प्रथम चक्र का टीकाकरण पूरा होने पर तीसरी किश्त के रूप में 2000 रूपये दिए जाते हैं भुगतान गर्भवती के बैंक खाते में ही किये जाते हैं इस योजना का लाभ सभी सही पात्र लोगों को मिल सके इसके लिए ऑनलाइन पंजीकरण की व्यवस्था की गई है यह सुविधा अमीर, गरीब व किसी भी जाति बंधन से मुक्त है केवल महिला सरकारी कर्मचारियों को इस सुविधा का लाभ नहीं दिया जाएगा यह योजना पूर्णत: निशुल्क है इसमें किसी भी तरह का शुल्क नहीं लिया जाता है डॉ. यादव,  ने कहा कि धन व जागरूकता के अभाव में अधिकतर गर्भवती महिलाएं बेहतर पोषण से वंचित रह जाती हैं ऐसे लोगों के लिए सरकार ने प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की शुरुआत एक जनवरी 2017 को की थी इस योजना से महिलाओं को समय पर उचित पोषण तो मिलेगा ही साथ ही शिशु मृत्यु दर में भी कमी आएगी डा. यादव, ने बताया योजना के शुभारम्भ से अब तक जनपद में कुल 36990 पंजीकरण हो चुके हैं वहीं कुल 35790 महिलाओं को इसका लाभ मिल चुका है उन्होंने बताया योजना का लाभ लेने के लिये टीकाकरण कार्ड, आधार कार्ड, बैंक/पोस्ट आफिस की पासबुक,शिशु का जन्म प्रमाण पत्र होना आवश्यक है योजना का लाभ लेने के लिये गर्भवती महिलाएं अपने निकटतम प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर सम्पर्क कर सकती हैं।